सीबीआई ने पकड़ा पीड़िता का झूठ,पीड़िता और उसकी मां पर केस दर्ज

देश भर में सुर्ख़ियो में चल रहे उन्नाव रेप केस में फिर एक नया मोड़ आ गया है। पीड़िता की उम्र शुरुआत से ही चर्चा का विषय रही है| कोर्ट में केस शुरू होने के साथ ही भाजपा से निष्कासित विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने एक बार फिर अपने निर्दोष होने की बात जज के सामने रखी। इसी के साथ इस केस के तथ्यों को फिर एक बार देखना ज़रूरी हो गया है।

1.पीड़िता और उसकी माँ के ख़िलाफ़ CBI को नक़ली मार्कशीट देने का केस दर्ज हो गया है। मार्कशीट नक़ली होने की बात को CBI ने स्वीकारा है।

2.पीड़िता के तीन अलग अलग जन्मतिथि के काग़ज़ CBI द्वारा बरामद किए गए हैं। 2017 की 11 जून की घटना के लिए उसने उन्नाव के स्कूल की मार्कशीट का इस्तेमाल किया था और 4 जून के लिए रायबरेली के स्कूल की मार्कशीट CBI को दी है। इसके सिवा भी एक रायबरेली की मार्कशीट पीड़िता के घर से बरामद हुई है।

3.एम्स ,लोहिया और अन्य अस्पतालों में जाँच द्वारा भी उसकी उम्र 18 से ऊपर बतायी गई है।

4.उन्नाव में हुई शुरुआती मेडिकल जाँच में भी उसकी उम्र 19 साल या उससे ऊपर की पाई गई है।

भाजपा से निष्कासित विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर पॉक्सो एक्ट लगा है , यह नए तथ्य सामने आने से देखते हैं कि केस में आगे क्या फ़र्क पड़ता है।